मुख्य समाचार
  • Breaking News Will Appear Here

गिरफ्तारी पर रोक के लिए रेप के आरोपी गायत्री प्रजापति की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

 Sudarshan News Beuro |  2017-03-06 05:35:25.0

गिरफ्तारी पर रोक के लिए रेप के आरोपी गायत्री प्रजापति की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

नई दिल्ली : आज सुप्रीम कोर्ट में गायत्री प्रजापति की उस अर्जी पर सुनवाई होनी है, जिसमें उन्होंने गिरफ्तारी पर रोक की मांग की है। बता दें मंत्री काफी समय से फरार चल रहे हैं। कुछ सूत्रों के मुताबिक गायत्री कोर्ट में सरेंडर भी कर सकते हैं। अगर वो ऐसा करते हैं तो पुलिस ने कोर्ट के बाहर ही गिरफ्तार करने की तैयारी कर रखी है।

पुलिस गायत्री के खिलाफ लुकआउट नोटिस कर चुकी है जिसके बाद एअरपोर्ट, रेलवे स्टेशनों सहित तमाम मार्गों पर पुलिस नजर रख रही है। इन सब आरोपों पर गायत्री प्रजापति ने आरोप लगाते हुए कहा है कि यह मामला राजनीति से प्रेरित है और शिकायतकर्ता महिला आदतन ब्लैकमेलर है। गायत्री की गिरफ्तारी का मुद्दा हर दिन गरम होता जा रहा है। इस बीच उसकी गिरफ्तारी को लेकर सीएम अखिलेश पर कई सवाल उठ रहे हैं कि जब उन पर रेप का आरोप था क्यों उसे टिकट दिया गया।


वहीं, अब यूपी के राज्यपाल भी सीएम से सवाल पूछ रहे हैं कि गायत्री प्रजापति को मंत्रिमंडल से क्यों नहीं हटाया जा रहा है। वहीं, आज निगाहें सुप्रीम कोर्ट पर हैं, जहां गायत्री की गिरफ्तारी पर रोक की मांग वाली अर्जी पर सुनवाई होनी है। गायत्री खुद तो फरार है, लेकिन उनके वकील सामने आए हैं और गायत्री के खिलाफ लगे आरोपों को साजिश बता रहे हैं।

इसके साथ ही पीड़ित के वकील गायत्री के खिलाफ पुलिस की जांच पर ही सवाल उठा रहे हैं। गायत्री प्रजापति कहां हैं ये अभी किसी को नहीं पता। संभव है कि गिरफ्तारी पर रोक वाली याचिका पर फैसले का इंतजार कर रहे हों। बलात्कार के आरोपी गायत्री प्रजापति को पुलिस ढूंढ रही है, लेकिन वो गायब हो गया है। यही वजह है कि चुनाव के मैदान में हर दिन गायत्री की फरारी का मुद्दा गुंज रहा है और निशाने पर अखिलेश यादव और उनकी सरकार है।

गौरतलब है कि गायत्री प्रजापति और उसके साथियों पर एक महिला ने रेप का आरोप लगाया था कि महिला के अनुसार तीन साल पहले उसे चाय में नशीला पदार्थ मिलाकर दिया गया जिसके बाद वो बेहोश हो गई और गायत्री समेत सात लोगों ने मिलकर दुष्कर्म किया। मामले की कारवाई के बाद 18 फरवरी 2017 को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर गायत्री समेत सात और आरोपियों के खिलाफ कई धाराओं में एफआइआर दर्ज की गई थी।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top