मुख्य समाचार
  • Breaking News Will Appear Here

चुनाव नतीजों से उत्साहित मोदी सरकार अब लेगी कड़े फैसले...

 Sudarshan News Beuro |  2017-03-12 07:00:53.0

चुनाव नतीजों से उत्साहित मोदी सरकार अब लेगी कड़े फैसले...

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में बंपर जीत से उत्साहित केंद्र की मोदी सरकार के हौसले बुलंद हो गए हैं। विधानसभा चुनाव के नतीजों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले पर मुहर लगा दी है। ऐसे में मोदी सरकार नोटबंदी को अब कामयाबी के तौर पर पेश कर सकती है। अगर ये हुआ तो पीएम मोदी कुछ और कड़े और सख्त कदम उठा सकते हैं।

सूत्र के मुताबिक इनमें आयकर की व्यवस्था को बैंकिंग ट्रांजैक्शन से बदलने जैसा कदम भी हो सकता है। मोदी सरकार नोटबंदी की तरह बेनामी प्रॉपर्टी को लेकर सरकार बड़ा कदम उठा सकती है। कानून पहले से पास है और जल्द ही उसे लागू करने की योजना है। सरकार कई परियोजनाओं में दी जा रही सब्सिडी में कटौती या या इसे खत्म भी कर सकती है। मोदी सरकार पहले ही जनता को सब्सिडी छोड़ने के लिए अपील कर चुकी है।


एलपीजी सिलेंडर जल्द ही पूरी तरह सब्सिडी मुक्त हो सकता है। इसके अलावा सरकार गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम को सख्त कर सकती है। GST लागू होने के बाद राज्यों में महंगाई बढ़ेगी। इससे पार पाने के लिए शायद ही केंद्र सरकार कोई कदम उठाए। महंगाई बढ़ने का सबसे बड़ा कारण ये हो सकता है कि वन टैक्स पॉलिसी के लागू होने से छोटे और मध्यम कारोबारियों को नुकसान होगा।

इसके साथ ही देश में डिजिटाइजेशन की रफ्तार को और तेज करने के लिए भी सरकार अहम कदम उठा सकती है। नकद लेन-देन को कम से कम करने पर जोर दिया जाएगा। देश की अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने की दिशा में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआइ) को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। मोदी सरकार ने अपने ढाई साल के कार्यकाल में एफडीआइ नीति को काफी विस्तार दिया है और कई क्षेत्रों में एफडीआइ नियमों को उदार बनाया है।

इस काम को प्रधानमंत्री मोदी अब और मजबूती से आगे बढ़ा सकते हैं। गौरतलब है कि 8 नवंबर को प्रधानमंत्री ने देश में सर्वाधिक प्रचलित 500 और 1000 रुपये की लगभग 86 फीसदी करेंसी को प्रतिबंधित कर दिया था। इस फैसले का पूरे देश पर व्यापक असर पड़ा। आम आदमी बैंक और एटीएम की लाइनों में खड़ा हो गया। तो देशभर में कैश पर आधारित कारोबार ठप पड़ गया। कैश की तंगी और गिरते आर्थिक आंकड़ों से केन्द्र सरकार भी सकते में आ गई।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top