मुख्य समाचार
  • Breaking News Will Appear Here

जिसे आप सोच कर भेज रहे ज्ञान का मंदिर, असल में वो बन चुके हैं उनके यौन शोषण व क़त्ल के अड्डे ... पढ़िए मैकाले की साजिश

 Admin 2 |  2017-09-10 13:00:34.0

जिसे आप सोच कर भेज रहे ज्ञान का मंदिर, असल में वो बन चुके हैं उनके यौन शोषण व क़त्ल के अड्डे ... पढ़िए मैकाले की साजिश

छोटे मासूम बच्चे जिन्हे बलात्कार और यौन शोषण का मतलब तक नहीं पता, उनके साथ स्कूल में ऐसा कुकर्म किया जा रहा जिस से वे मासूम बच्चे इतने सहम गए है कि स्कूल का नाम सुन कर ही थर-थर कापने लगते है. स्कूल जिसे हिंदुत्व में विद्या का मंदिर भी कहा जाता है आज हिन्दुस्थान में उसकी छवी इतनी बिगाड़ दी गयी है कि माता पिता अपने बच्चो को स्कूल भेजने से पहले लाख बार सोच ने लगे है. वजह है स्कूलों में मासूम बच्चो के साथ यौन शोषण की बढ़ती घटनाये। आकड़ो के अनुसार भारत के ईसाई कान्वेंट स्कूलों में पढ़ाई की आड़ में बच्चों के साथ योन शोषण की घटनाओ में इज़ाफ़ा हुआ है.

जिसमे ताज़ा मामला केरल के कोच्ची के किंग्स डेविड इंटरनेशनल स्कूल का है. जहाँ के प्रिंसिपल फादर बेसिल कुरियाकोस ने 10 साल के मासूम का यौन शोषण किया। बेटे के साथ हुई इस घटिया हरकत का जब माता पिता को पता चला तो उन्होंने 65 वर्षीया पादरी बेसिल कुरियाकोस की शिकायत पुलिस में दर्ज की जिसके बाद पुलिस ने आरोपी फादर बेसिल कुरियाकोस को गिरफ्तार किया। बता दें कि ऐसी घटनाये पहले भी सामने आयी है जिसमे पादरी ने मासूम का शोषण किया हो. इन घटनाओ में आरोपी पादरियों की उम्र 50 साल या उससे उपर रही है.

आकड़ो के अनुसार कान्वेंट स्कूलों में यौन शोषण के मामले सबसे ज्यादा रहे है. कान्वेंट स्कूल ही नहीं बल्कि चर्चो में भी पादरियों द्वारा मासूमो के साथ बलात्कार के मामले भी सामने आते रहते हैं. जहाँ मज़हब के नाम पर ईसाई मज़हब गुरु मासूम का शोषण करते है. जिसमे सबसे खौफनाक घटना 2014 में केरल के त्रिचूर में सेंट पॉल चर्च की है जहाँ के पादरी राजू कोक्कन को 9 वर्षीय बच्ची के साथ कई बार बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया गया.

एक रिपोर्ट के अनुसार यह देखा गया है कि बिना जांच के ही किसी को भी पादरी का पद दे दिया जाता है जिसके बाद ऐसी घटनाये सामने आती है जिस पर गौर फरमाने की ज़रूरत है. कान्वेंट स्कूल और चर्च के ऐसे मामले भी सामने आये है जहाँ लोगो का जबरन मज़हब परिवर्तन कराया गया. ऐसी घटनाओ के मद्दे नज़र शासित सरकार ने धर्मांतरण कानून भी बनाया है. जिसका जमकर विरोध भी किया गया. विरोध के जरिये इस कानून को हटाने की मांग की गयी. कान्वेंट स्कूल में बच्चो के प्रति बढ़ रहे अपराध एक गंभीर चिंता का विषय बना हुआ है जिस पर जल्द ही कोई ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top