मुख्य समाचार
  • Breaking News Will Appear Here

आज तय होगा यूपी का नया सीएम, ये दिग्गज हैं दावेदार

 Sudarshan News Beuro |  2017-03-12 05:58:38.0

आज तय होगा यूपी का नया सीएम, ये दिग्गज हैं दावेदार

नई दिल्ली : यूपी में राम लहर से बड़ी पीएम मोदी की लहर साबित हुई। आज भाजपा की केंद्रीय संसदीय बोर्ड की बैठक होने वाली है जिसमें उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में मुख्यमंत्री पद के नाम तय किए जाएंगे। मिली जानकारी के मुताबिक चार नाम बीजेपी की रेस में चल रहे हैं। अब सवाल बीजेपी का संभावित सीएम कौन होगा? आज शाम 6 बजे बीजेपी पार्लियामेंट्री बोर्ड की बैठक होगी, जिसमें मुख्यमंत्री के नाम पर मुहर लग सकती है। साथ ही त्रिशंकु विधानसभा वाले मणिपुर और गोवा में सरकार बनाने की संभावनाओं को तलाशा जाएगा।


राजनाथ सिंह :-
सबसे पहला नाम राजनाथ सिंह का है। राजनाथ सिंह सूबे में बीजेपी के सबसे कद्दावर नेता हैं। राजनाथ सिंह यूपी से ही ताल्लुक रखते हैं और 2002 तक सीएम का पद भी संभाल चुके हैं। यूपी को बीजेपी में जीत दिलाने के लिए बतौर राष्ट्रीय नेता सबसे ज्यादा सवा 100 रैलियां भी राजनाथ ने की। चुनाव प्रचार के दौरान राजनाथ सिंह ने 20 हजार किलोमीटर की यात्रा भी की। उनके बारे में कहा जाता है कि वो संगठन के काफी अनुशासित सिपाही हैं, जो हमेशा से पार्टी के फैसलों के साथ आगे बढ़ने के लिए जाने जाते हैं।



मनोज सिन्हा :-
दूसरा नाम आता है यूपी के गाजीपुर से सांसद मनोज सिन्हा का। आईआईटी बीएचयू से सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक और एमटेक की डिग्री हासिल करने वाले मनोज सिन्हा ने अपने काम से बतौर संगठनात्मक रणनीतिज्ञ का दर्जा हासिल किया है। इसकी बड़ी वजह उनका पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का करीबी होना है और काफी भरोसेमंद भी हैं। इन्हें सीएम बनाया जा सकता है।


योगी आदित्यनाथ :-

योगी आदित्यनाथ का नाम पूर्वांचल की राजनीति में अहम माना जाता है। आदित्यनाथ हिंदुत्व का मुखर चेहरा माने जाते हैं। प्रदेश के नेताओं में शायद संघ और बीजेपी के कार्यकर्ताओं में सबसे ज्यादा लोकप्रिय भी हैं। बहुसंख्यकों का ध्रुवीकरण कराने में भी आदित्यनाथ अहम भूमिका कही जा रही है। पश्चिम उत्तर प्रदेश से लेकर पूर्वी उत्तर प्रदेश तक स्टार प्रचारक की हैसियत से आदित्यनाथ की ताबड़तोड़ सभाएं इसका गवाह हैं। संघ में भी उनकी अच्छी पैठ मानी जाती है लेकिन पार्टी संगठन में योगी के लिए काफी चुनौतियां भी हैं।



केशव प्रसाद मौर्य :-
मुख्यमंत्री की रेस में फुलपुर से पहली बार चुने गए सांसद और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य का भी नाम शामिल है। बीजेपी के यूपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने भी जीत में बड़ी भूमिका निभाई है। केशव प्रसाद मौर्य ने राजनाथ सिंह और मनोज सिन्हा के मुकाबले कम जनसभाओं को संबोधित किया है, क्योंकि वो पर्दे के पीछे रहकर संगठनात्मक जिम्मेदारियों को निभाने में लगे थे। केंद्रीय नेतृत्व उन्हें पसंद करता है, हालांकि उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। उनके अतीत में लगे कुछ दाग उन्हें सीएम पद से दूर कर सकते हैं।


Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top